तीसरे कार्यकाल दरमियान मोदी देश में बड़े फैसलों को लेने के लिए तैयार

नई दिल्ली – लोकसभा चुनाव में एनडीए का बहुमत हासिल करना सुनिश्चित होने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने पार्टी कार्यकर्ताओं और नागरिकों को संबोधित करते हुए नए कार्यकाल में बड़े फैसले लेने का अपना इरादा जाहिर किया. पीएम मोदी के भाषण में एनडीए सरकार (NDA Government) की पांच साल की रूपरेखा छिपी हुई थी. उन्होंने साफ संकेत दिया कि बीजेपी (BJP) भले ही अपने बूते बहुमत से दूर है, लेकिन इसका असर सरकार के बोल्ड फैसलों पर नहीं पडे़गा. सरकार पूरे मजबूती से फैसले लेती रहेगी. उन्होंने साफ कहा कि सरकार करप्शन के खिलाफ अपनी मुहिम नहीं रोकेगी. उन्होंने कहा कि, तीसरे कार्यकाल में एनडीए सरकार का सबसे ज्यादा जोर हर तरह के करप्शन को उखाड़ फेंकने पर होगा.

एक देश एक चुनाव

लोकसभा चुनाव 2024 में भाजपा के घोषणा पत्र में एक देश एक चुनाव का वादा किया गया है। नरेंद्र मोदी समेत भाजपा के तमाम बड़े नेता इसे लागू करने की वकालत कर रहे हैं। दरअसल, नरेंद्र मोदी ने 2019 के स्वतंत्रता दिवस पर एक देश एक चुनाव का जिक्र किया था। तब से अब तक कई मौकों पर भाजपा की ओर एक देश एक चुनाव की बात की जाती रही है। दरअसल, एक देश एक चुनाव की बहस 2018 में विधि आयोग के एक मसौदा रिपोर्ट के बाद शुरू हुई थी। उस रिपोर्ट में आर्थिक वजहों को गिनाया गया था। आयोग का कहना था कि 2014 में लोकसभा चुनावों का खर्च और उसके बाद हुए विधानसभा चुनावों का खर्च लगभग समान रहा है। वहीं, साथ-साथ चुनाव होने पर यह खर्च 50:50 के अनुपात में बंट जाएगा।

महिलाओं से जुड़ी योजनाओं पर फोकस बना रहेगा

बीजेपी ने चुनाव प्रचार में महिला वोटरों पर अपना खास फोकस रखा था। पीएम मोदी आज भी अपने भाषण में महिलाओं का जिक्र करना नहीं भूले।उन्होंने अपनी दिवंगत मां को याद करते हुए कहा कि, “आज का यह पल निजी तौर पर मेरे लिए भी भावुक करने वाला पल है।मेरी मां के जाने के बाद यह मेरा पहला चुनाव था. लेकिन सच मानिए देश की मां, बहनों और बेटियों ने मां की कमी मुझे खलने नहीं दी।मैं जहां-जहां भी गया, मुझे आशीर्वाद मिला।देश में महिलाओं ने वोटिंग के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए. देश की माताओं बहनों ने मुझे नई प्रेरणा दी है.” इसका यही संकेत है कि बीजेपी का महिलाओं पर फोकस आगे भी बना रहेगा और वह उनके कल्याण से जुड़ी योजनाओं पर आगे भी काम करती रहेगी।

स्वास्थ्य क्षेत्र में आयुष्मान भारत का विस्तार

तीसरे कार्यकाल में केंद्र सरकार की प्रमुख स्वास्थ्य बीमा योजना आयुष्मान भारत को बड़े आकार में देखा जा सकता है। नरेंद्र मोदी चुनावी कार्यक्रमों में यह कहते रहे हैं कि तीसरे कार्यकाल में बड़े फैसलों के लिए ‘मोदी की गारंटी’ पूरी की जाएगी। चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए मोदी ने भविष्य के लिए अपने विजन को रेखांकित किया था। मोदी ने आयुष्मान भारत के तहत प्रदान की जाने वाली मुफ्त स्वास्थ्य सेवा तक अभूतपूर्व पहुंच पर जोर दिया। इसके अलावा भाजपा के 2024 के घोषणापत्र में आयुष्मान भारत के कवरेज को 70 वर्ष से अधिक उम्र के वरिष्ठ नागरिकों और ट्रांसजेंडर समुदाय को शामिल करने के लिए आगे बढ़ाने का भी वादा किया गया है।

विदेश नीति में यूएनएसी की स्थायी सदस्यता पर जोर

नरेंद्र मोदी अक्सर अपने भाषणों में वैश्विक नेता के तौर पर भारत की स्थिति मजबूत करने पर जोर देते रहे हैं। अपने तीसरे कार्यकाल में मोदी की विदेश नीति का लक्ष्य संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में भारत की लंबे समय से प्रतीक्षित स्थायी सदस्यता को साकार करना होगा। विदेश नीति के मोर्चे पर सरकार यूएनएससी की सदस्यता पर जोर देगी, लेकिन इस प्रयास में संयुक्त राष्ट्र में सुधार भी शामिल है। यूएनएससी में सुधार एक बड़ी चुनौती होगी क्योंकि स्थायी सदस्य चीन अक्सर भारत को इसमें शामिल करने का विरोध करता रहा है।

The post तीसरे कार्यकाल दरमियान मोदी देश में बड़े फैसलों को लेने के लिए तैयार appeared first on bignews.

[#content_wordai] 

Share This Article
Leave a comment