इजरायल और हमास को ब्लैकलिस्टेड करने जा रहा UN,गाजा में मासूमों की हत्या के बाद किया फैसला

नई दिल्लीः संयुक्त राष्ट्र ने इजरायल और हमास को काली सूची में डालने का फैसला किया है। इससे इजरायल में सबसे ज्यादा खबलबली मच गई है। संयुक्त राष्ट्र ने गाजा में बच्चों के साथ किए जाने वाले अपराध पर इजरायल और हमास के खिलाफ यह कदम उठाने का फैसला किया है। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुटरेस सुरक्षा परिषद को सौंपी जाने वाली अपनी आगामी वार्षिक रिपोर्ट में इजरायल और हमास को सशस्त्र संघर्ष में बच्चों के अधिकारों और सुरक्षा का उल्लंघन करने वालों की सूची में शामिल करेंगे। उन्होंने इसकी जानकारी दे दी है।

इजराइल-हमास शर्मसार करने वालों की लिस्ट में शामिल

इजराइल-हमास जंग में अब तक 15 हजार 571 बच्चों ने जान गंवाई है। UN ने इजराइली हमलों में हुई इन हत्याओं को दुनिया के लिए शर्मसार माना है और इजराइल को लिस्ट ऑफ शेम में डाला दिया है। इजराइल पर लग रहे मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोपों को देखते हुए UN ने उसे ब्लैकलिस्ट कर दिया है।

बच्चों के साथ किए अपराध पर उठाया कदम

पिछले वर्ष की रिपोर्ट की प्रस्तावना के अनुसार, ‘‘बच्चों की हत्या करने और उन्हें अपंग बनाने’’ और ‘‘विद्यालयों, अस्पतालों पर हमलों’’ में शामिल होने पर पक्षकारों को सूची में शामिल किया जाता है। संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने संवाददाताओं को बताया कि महासचिव गुटरेस के कार्यालय के प्रमुख कोर्टेने रैट्रे ने संयुक्त राष्ट्र में इजरायल के राजदूत गिलाद एर्डन को फोन कर शुक्रवार को बताया कि अगले सप्ताह जब परिषद को रिपोर्ट भेजी जाएगी तो इजरायल को सूची में शामिल किया जाएगा।इजराइल अब उन देशों में शामिल है जो बच्चों को नुकसान पहुंचाता है। टाइम्स ऑफ इजराइल की रिपोर्ट के मुताबिक, संयुक्त राष्ट्र (UN) ने इजराइल के अलावा हमास और फिलिस्तीनी जिहाद को ‘लिस्ट ऑफ शेम’ (शर्मनाक सूची) में शामिल किया है।

पहली बार इजराइल और हमास को इस लिस्ट में किया शामिल

UN सेक्रेटरी जनरल एंटोनियो गुटेरेस के ऑफिस ने शर्मनाक देशों और संस्थाओं की वार्षिक रिपोर्ट फाइनल की। इसके बाद इजराइल के राजूदत गिलाद एर्दन को इसकी जानकारी दी गई। जंग के बीच गाजा में बच्चों पर हो रहे जुल्म को देखते हुए यह फैसला किया गया है। यह पहली बार है, जब इजराइल और हमास को इस लिस्ट में जोड़ा गया है।

इजरायल के साथ हमास पर भी चाबुक

संयुक्त राष्ट्र ने बच्चों पर अपराध करने के लिए इजरायल के साथ ही हमास को भी आड़े हाथों लिया है। हमास ने भी कई बच्चों की निर्मम हत्या की है। वहीं गाजा के हवाई हमलों में काफी संख्या में फिलिस्तीनी बच्चे मारे गए हैं। इजरायल इसके लिए जिम्मेदार है। लिहाजा इजरायल के साथ हमास और फिलस्तीनी इस्लामिक जिहाद को भी सूचीबद्ध किया जा रहा है। यूएन के इस फैसले के खिलाफ इजरायल ने नाराजगी जताते हुए समाचार संगठनों को एक वीडियो भेजा, जिसमें एर्डन कथित तौर पर रैट्रे से बात करते हुए उन्हें डांटते दिख रहे हैं। (एपी)

नेतन्याहू ने दिया ये रिएक्शन

रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा, “UN ने हमास की बेतुके दावों के आधार पर इस लिस्ट में हमारा नाम जोड़ा है। ऐसा करके सेक्रेटरी जनरल एंटोनियो गुटेरेस ने खुद को इतिहास में ब्लैकलिस्ट करवा लिया है। वे आतंकवाद और इजराइल के खिलाफ नफरत को बढ़ावा देते हैं।”नेतन्याहू ने कहा, “इजराइली डिफेंस फोर्स IDF पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा इंसानियत रखने वाली सेना है। UN का कोई भी फैसला इस हकीकत को नहीं बदल सकता।”दूसरी तरफ, UN में फिलिस्तीन के प्रतिनिधि रियाद मंसूर ने कहा है कि इजराइल को लिस्ट ऑफ शेम में जोड़ने से उन बच्चों को दूसरा जीवन नहीं मिल सकता, जिनकी इजराइल के हमले में मौत हो गई। फिर भी यह इजराइल के अत्याचार के खिलाफ विरोध दर्ज कराने के लिए एक अहम कदम है।

पिछले साल रूस को लिस्ट में जोड़ा गया था

इजराइल और हमास के अलावा अब तक UN की लिस्ट में रूस, अफगानिस्तान, इराक, मयांमार, सीरिया, यमन, सोमालिया, ISIS और अलकायदा का नाम शामिल है। पिछले साल यूक्रेन में जंग के चलते बच्चों पर हुए अत्याचार को देखते हुए रूस को इस सूची में जोड़ा गया था।इससे पहले इजराइल-फिलिस्तीन विवाद के बीच UN की रिपोर्ट में कई बार यहां हो रही बच्चों की मौत का जिक्र किया गया था। हालांकि, अब तक कभी भी इन्हें लिस्ट में नहीं जोड़ा गया था।

गाजा में अकाल का खतरा, 23 लाख लोग भुखमरी की कगार पर

UN एक्सपर्ट्स के मुताबिक, गाजा में खाना, पानी, दवाइयों और दूसरे जरूरी सामानों की सप्लाई पर इजराइल की पाबंदी की वजह से वहां मानवीय संकट बढ़ गया है। गाजा के कई हिस्से में अकाल का खतरा है। इस हफ्ते की शुरुआत में UNICEF ने बताया था कि जंग के बीच 10 में से 9 फिलिस्तीनी बच्चे गंभीर खाद्य गरीबी में जिंदगी गुजार रहे हैं।UN के मुताबिक गाजा की 23 लाख से ज्यादा आबादी भुखमरी के कगार पर है। सबसे बुरी स्थिति युद्ध के बीच जन्मे बच्चों की है। अप्रैल में गाजा के अस्पतालों में कुपोषण से 12 साल से कम उम्र के 30 बच्चों की मौत हो गई थी।

12 साल तक ‘लिस्ट ऑफ शेम’ में था भारत का नाम

साल 2010 में भारत का नाम भी इस लिस्ट में जोड़ा गया था। दरअसल इस सूची में उन देशों को भी शामिल किया जाता है जो अपने देश में बच्चों की सुरक्षा और संरक्षण के लिए जरूरी कदम नहीं उठा रहे हैं। तब भारत के अलावा पाकिस्तान और फिलिपींस जैसे देशों को लिस्ट में जोड़ा गया था।हालांकि, पिछले साल एंटोनियो गुटेरेस ने इस लिस्ट से भारत का नाम हटा दिया। उन्होंने कहा था कि बच्चों की बेहतरी के लिए भारत सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों के बाद यह फैसला लिया गया।

The post इजरायल और हमास को ब्लैकलिस्टेड करने जा रहा UN,गाजा में मासूमों की हत्या के बाद किया फैसला appeared first on bignews.

[#content_wordai] 

Share This Article
Leave a comment